चित्र पर किलिक करें

रविवार, 11 दिसंबर 2011

अयोध्या में है विश्व क़ी सबसे लम्बी कब्र
आप ने भगवान श्री राम क़ी जन्म भूमि अयोध्या के बारे में काफी कुछ सुना होगा,वहाँ गए भी होंगे ,मंदिर एवम घाटों के दर्शन भी किये होंगे |लेकिन आप को क्या मालूम है कि उसी अयोध्या में विश्व क़ी अनोखी कब्र भी है जिसकी लम्बाई लगभग नौ गज है | चौंक पड़े न ,लेकिन सही है | वैसे तो कब्रे व मजारें तो दुनिया भर में हैं,लेकिन यह कब्र उच्च अनोखी है | जिसे हजरत - नुह - अल - ए- इस्लाम क़ी बताई जाती है | लेकिन इतिहासकरों में भी इस बात को लेकर मतभेद हे | कुछ इतिहासकरों ने नुह - अल - ए- इस्लाम साहब को गंजे शहीद  मना है |कहते हैं कि मोहम्मद साहब के 19 वीं पीढ़ी के नुह - अल - ए- इस्लाम साहब एक बार अपनी किश्ती से कहीं जा रहे थे .जब वे अयोध्या के पास पहुंचे ही थे कि अचानक भिसन तूफान आ गया |जिसकी चपेट में आ कर उनकी किश्ती (नव )के आठ तुकडे हो गए |जिसे वही जमीन में गाड दिया गया | जिसे आज नुह - अल - ए- इस्लाम क़ी कब्र के रूप में बताया जाता है | वहीँ कुछ अन्य इतिहासकरों कि धरना यह है कि आज से लगभग छह हजार साल पहले क़ी यह कब्र काफी पुरानी है जो उन्ही की है |उन्हें मानने वालों का कहना है की यह कबर उन्ही क़ी है,जो उस समय औसत आकार क़ी रही होगी |लेकिन छह हजार वर्ष का समय काम नहीं होता है,इस लिये कब्र क़ी मिटटी फैलाते -फैलाते फैल गई होगी |जो आज नौ गज क़ी हो गई है | इस नौ गज क़ी कब्र का इतिहास कुछ भी हो ,लेकिन आज भी इसे दुनिया क़ी सबसे लम्बी  कब्र का दर्जा हासिल हे |लेकिन जिला प्रशासन एवम पर्यटन विभाग की लापरवाही के चलते आज इसका कोई पुरसा हाल नही है |कब्र के आस-पास गन्दगी का ढेर पड़ा रहता है | नुह - अल - ए- इस्लाम साहब क़ी यह कब्र जब आप अयोध्या के मुख्य मार्ग पर हनुमानगढ़ी से थोडा आगे तुलसी पार्क क़ी ओर चलेंगे तो आप को दायें तरफ एक महल दिखाई देगा, जो राजा साहेब अयोध्या का है | इससे और आगे चलाने पर इसी हाथ आप को अयोध्या कोतवाली  दिखाई देगा | अयोध्या कोतवाली से ही बाएं तरफ कुछ दुकाने हैं,कोतवाली एवम दुकानों के बीच एक संकरा सा रास्ता है,जो अमूमन दिखाई नहीं देता | क्यों की वहाँ पर अतिक्रमण जो होगया है |उस संकरे रास्ते में आप पच्चीस कदम चलेंगे कि आप को या बड़ा सा हाता (मैदान ) दिखाई देगा,जो जिसमे दस फीट चौड़ी  एवम पच्चीस फीट लम्बी एक कब्र दिखाई देगी| इसे ही नुह - अल - ए- इस्लाम साहब क़ी कब्र के रूप में जाना जाता है |आप जब भी अयोध्या जाएँ तो विश्व की इस लम्बी व अनोखी कब्र को देखना मत भूलिएगा |
प्रदीप श्रीवास्तव

1 टिप्पणी:

  1. अनुवाद करने के लिए मुश्किल है, लेकिन मैं किसी दिन यकीन है कि मैं कर देगा हूँ, मुझे यकीन है कि बहुत दिलचस्प रहा हूँ यहाँ है.

    उत्तर देंहटाएं