चित्र पर किलिक करें

गुरुवार, 8 दिसंबर 2011






7000
 फुट की ऊंचाई पर बसा है हिमाचल का शहर शिमला। दिल्ली व चंडीगढ़ से शिमला के लिये सीधी बस सेवा है। कालका से आप
टवाये ट्रेन द्वारा भी सफर कर सकते हैं। रास्ते में धर्मपुर, सोलन व कंडाघाट तथा तारा देवी मुख्य बस ठहराव हैं। कुम्हार हट्टी से एक सड़क नाहन की ओर जाती है। कालका-शिमला के बीच (सड़क से 1 कि.मी. ऊपर) होटल बडोग हाइट है। सोलन में भी स्तरीय होटल है।
शिमला आने के लिये अच्छा समय है। शिमला में लगभग 400 बजट होटल हैं। माल रोड शिमला का दिल है। यहां वालजी जैसे अच्छे रेस्तरां हैं। यहां कॉफी हाउस में आप दक्षिणी भारत के व्यंजन चख सकते हैं। रिज पर बच्चों के लिये घुड़सवारी आकर्षण है। मई अंतिम सप्ताह में समर फेस्टीवल तथा फिल्म फेस्टीवल का आनंद ले सकते हैं। आजकल यहां बहुत रौनक है।
जेठ महीने की ‘लू’ से बचने के लिये उत्तरी भारत से लाखों सैलानी शिमला सप्ताह भर के लिये आते हैं। अधिकतर मध्य वर्ग के सैलानी यहां आते हैं। विदेशी लोग भी आपको यहां मिल जाएंगे।
शिमला पहाड़ी पर बसा है। रात के समय यह शहर कल्पना लोक-सा बन जाता है। बस अड्डे के पास गुरुद्वारा है तथा पास ही लिफ्ट है। लिफ्ट द्वारा आप सीधे माल रोड जा सकते हैं। आपको चढाई चढऩे की जरूरत नहीं। आजकल यहां मौसम सुहावना है।
शिमला के आसपास अनेक दर्शनीय स्थल हैं।
राज्य संग्रहालय : स्कैंडल प्वायंट से चौड़ा मैदान की ओर लगभग तीन किलोमीटर पैदल आपको चलना होगा। यहां पर प्राचीन सिक्के, मूतयां, तथा कांगड़ा शैली के लघुचित्र संगृहीत हैं।
वाइस   रीगल लाज : 1888 में बनी यह इमारत देखने योग्य है। इसमें भारत के वाइसराय रहते थे। अब इसे एडवांस्ड स्टडीज संस्थान के नाम से जाना जाता है। चौड़ा मैदान से 2 कि.मी. पैदल  यात्रा आपको करनी होगी। यहां नाममात्र का 20 रु. प्रवेश शुल्क लिया जाता है।
क्राइस्ट चर्च : रिज के साथ खड़ी है यह भव्य इमारत जिसे शिमला की शान कहा जा सकता है। 1846-57 के बीच इस गिरिजाघर का निर्माण हुआ।
जाखू मंदिर : हनुमान जी को समर्पित यह मंदिर शिमला की चोटी पर स्थित है। पैदल   आप रिज से जा सकते हैं। अब वाहन द्वारा  भी यहां जाया जा सकता है।
संकट मोचन मंदिर : शिमला-कालका मार्ग पर लगभग 10 कि.मी. दूर बाईं ओर दर्शनीय स्थल है। यहां रेस्तरां  आदि भी हैं।
मशोवरा : शिमला से मात्र 12 कि.मी दूर छोटा-सा मनोहर गांव    है। यहां याक सवारी का मजा लें।
नालदेहरा : मशोवरा से 15 कि.मी. दूर यह रमणीक स्थल है। यहां होटल व रेस्तरां  आदि की भी सुविधा है।
तत्तापानी : नालदेहरा से 30 कि.मी. आगे है तत्तापानी कस्बा। यहां आप गर्म चश्मों का आनंद लें। स्प्रिंगव्यू त्रिमूर्ति    होटल में आप रात बिता सकते हैं।
कसौली :  शिमला से धर्मपुर होते हुए 75कि.मी. की यात्रा है कसौली  सुंदर गांव की। धर्मपुर से 12 कि.मी. चढ़ाई का मार्ग है।  धर्मपुर सोलन के निकट  एक कस्बा है। कसौली की ऊंचाई 1850 मीटर है।
चायल : 2150 मीटर की ऊंचाई पर शिमला दक्षिण की ओर 65 कि.मी. दूर है। यह  ऊंघता हुआ  लघु शहर है।

1 टिप्पणी: